lovebet.com और अधिक

Publishing time:2021-10-25 20:36:47

lovebet 30 से 1 lovebet.com और अधिक 188bet लिंक अल्टरनेटिफ २०२०,casumo उत्तम,lovebet 122 बोनस,lovebet यूरोपीय संघ,lovebet त्वरित निकासी,lovebetapp लॉगिन,बैकारेट 10 पीस कुकवेयर सेट की समीक्षा,कैसीनो में बैकरेट सबसे अनुचित खेल है,बॉल्स वर्चुअल रियलिटी क्रिकेट,सट्टेबाजी यांकी कैलकुलेटर,कैसीनो पैसा कमाते हैं,कैसीनो वाई बिंगोस कुआंडो अब्रेन,क्रिकेट 007,क्रिकेट रेडियो,एस्पोर्ट्स हिस्ट्री,बैकारेट के पांच नियम,फुटबॉल यू 20,जाओ लवबेट,लकी लॉटरी बेटिंग स्टेशन कैसे खोलें,10cric नकली है,जंगल रम्मी लॉबी,न्यूयॉर्क में लाइव कैसीनो,लॉटरी बंपर,लूडो आईएमडीबी,ओ लवबेट या कॉन्फियावेल,ऑनलाइन गेम बस,ऑनलाइन पोकर yasal mı,parimatch अनऑफिशियल डब फिल्में,पोकर ऑनलाइन असली पैसा भारत,री शतरंज क्लब,फुटबॉल मैचों में प्रतिस्थापन के नियम,लैपटॉप के लिए रम्मीकल्चर,स्लॉट मशीन विजेता 2020,खेल दिवस मनाया जाता है,स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी,टेक्सास होल्डम यूट्यूब वीडियो,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल लाइव,कौन सा नकद शतरंज का खेल सबसे अच्छा है,21 बजे facebook,ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए मोबाइल से,क्रिकेट उत्तराखंड,गोवा माहिती मराठी,तीन पत्ती फ्री चिप्स कोड,बकरी घास खा रही है,बैकारेट today,स्टेटस अपडेट, .क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

हाल में कई फंड ऑफ फंड्स (एफओएफ) लॉन्‍च हुए हैं. इस तरह निवेशकों के पास चुनने के लिए विकल्पों की कमी नहीं है.
हाल में कई फंड ऑफ फंड्स (एफओएफ) लॉन्‍च हुए हैं. इस तरह निवेशकों के पास चुनने के लिए विकल्पों की कमी नहीं है. हालांकि, एक बात हर निवेशक को ध्‍यान रखने की जरूरत है. चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है. इसका मतलब है कि निवेशकों को ओरिजनल स्‍कीम के साथ ही एफओएफ के एक्सपेंस रेशियो का भार भी उठाना पड़ सकता है.

इस बात को उदाहरण से समझते हैं. मान लेते कि निवेशक हाल में लॉन्‍च निप्‍पॉन इंडिया एसेट अलोकेट एफओएफ में निवेश करते हैं. इस मामले में उन्‍हें एफओएफ का एक्‍सपेंस रेशियो 0.19 फीसदी उठाना पड़ेगा. साथ ही वह एफओएफ जिन स्‍कीमों में निवेश करेगा, उनके वेटेड एवरेज एक्‍सपेंस रेशियो का भार भी निवेशकों पर आएगा. इस मामले में तीन स्‍कीमें हैं, निप्‍पॉन इंडिया स्‍मॉलकैप फंड (1.06%), निप्पॉन इंडिया ग्रोथ फंड (1.26%) और निप्पॉन इंडिया लॉर्जकैप फंड (1.18%).

आपको एफओएफ रूट का इस्‍तेमाल सिर्फ तभी करना चाहिए अगर अतिरिक्‍त कॉस्‍ट उचित है. आइए, जानते हैं कि इस फैसले तक पहुंचने में आपको किन बातों का ध्‍यान रखना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : निवेश की शुरुआत करने जा रहे हैं? जानिए कैसे उठाएं एक-एक कदम

आपके रिटर्न प्रोफाइल में फिट हो स्‍कीम
प्राइमरी स्‍कीम यानी घरेलू म्‍यूचुअल फंड स्‍कीम का उपलब्‍ध न होना एफओएफ रूट लेने का एक कारण हो सकता है. इससे भी अधिक महत्वपूर्ण यह है कि इस नई स्‍कीम को आपके पोर्टफोलियो प्रोफाइल में फिट होना चाहिए.

क्रेडेरे वेल्‍थ पार्टनर्स में प्रोडक्‍ट और रिसर्च के हेड अरुण गोपालन कहते हैं, ''निवेशकों को जिस स्‍कीम में निवेश किया जा रहा है, उसे देखना चाहिए. साथ ही यह भी पता लगाना चाहिए कि उससे क्‍या मकसद हल हो रहा है.''

एलआरएस के जरिये सीधे निवेश करने में क्‍या दिक्‍कत है?
आप पूछ सकते हैं कि लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्‍कीम (एलआरएस) का इस्तेमाल करते हुए सीधे विदेशी शेयरों में क्‍यों निवेश नहीं किया जा सकता है. यह बिल्‍कुल सही है कि आप सीधे निवेश कर सकते हैं. लेकिन, उसके लिए आपको काफी विशेषज्ञता की जरूरत होगी. इस बात को ध्‍यान रखना चाहिए कि भारतीय फंड हाउस सीधे इंटरनेशनल सेगमेंट में सिर्फ इसलिए नहीं हाथ आजमा रहे हैं क्योंकि उनके पास यहां निवेश करने की कुशलता नहीं है.

इसे भी पढ़ें : मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

आप इंटरनेशनल फंडों या एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड में निवेश कर काफी हद तक विशेषज्ञता के मसले को हल कर सकते हैं. हालांकि, यह एक और परेशानी खड़ी करेगा. वह है एलआरएस व्यवस्था के तहत रिपोर्ट‍िंग की.

हाल में लॉन्‍च हुए एफओएफ
master

जहां एफओएफ रूट का इस्‍तेमाल ग्‍लोबल डायवर्सिफिकेशन के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है. वहीं, अच्‍छा होगा कि घरेलू थीम के लिए इससे बचा जाए.

घरेलू एफओएफ की उपयोगिता कम
बात जब घरेलू परिदृश्य की आती है तो एफओएफ की उपयोगिता घट जाती है. हाल में लॉन्‍च कई एफओएफ अपने ही ईटीएफ में पैसा लगाएंगे. इस मामले में वैल्यू एडिशन कम है. कारण है कि निवेशक सेकेंडरी मार्केट से प्राइमरी ईटीएफ सीधे खरीद सकते हैं. हालांकि, यह निवेशकों के एक धड़े के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है.

प्‍लान अहेड वेल्थ एडवाइजर्स के सीईओ विशाल धवन कहते हैं कि जिन म्‍यूचुअल फंड निवेशकों के पास डीमैट या ट्रेडिंग अकाउंट नहीं है, उनके लिए ईटीएफ में एफओएफ निवेश उपयोगी होगा.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

फंड ऑफ फंड्सएफओएफम्‍यूचुअल फंडरिटर्न प्रोफाइलएक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read
क्‍या आपको फंड ऑफ फंड्स में निवेश करना चाहिए?

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.आईबीए ने बैंक कर्मचारी और अधिकारी संघों के साथ 11वीं द्विपक्षीय वेतनवृद्धि वार्ता नई सहमति के साथ सम्पन्न होने की बुधवार को घोषणा की.अगर आपके पास ये स्किल्‍स हैं तो नौकरी की नहीं है कमी

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.ओएनजीसी के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्लेषक?

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.इन तरीकों से आप घर बैठे कमा सकते हैं पैसा

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


डीओटीए 2 लवबेट
लॉटरी एनसी
स्टैंड-अलोन जुआ खेल
नकद लाइव कैसीनो
वीए लॉटरी स्क्रैचर कोड
शामिल होने के लिए बैकरेट एजेंट
cricket फोटो
एक्स फुटबॉल
श्रीलंका cricket team
बीविन लाइव रूले एरफह्रुंगेन
टी मी लवबेट चैनल
मैं पोकर श्रृंखला
casumo उदबेटलिंग
विश्व स्तर पर विश्वसनीय बैकारेट
fun88 निकासी
जैकपॉट विधि
कैसीनो 24
नवीनतम टू-कलर बॉल बेटिंग टिप्स
बैकारेट आइकॉनिक्स समीक्षा
टेक्सास होल्डम जेरारकिया
lovebet डाउनलोड पीसी
स्पोर्ट्स चैनल्स
lovebet आर हिल रिचमंड
casumo कैसीनो ऐप
नायब पोकर
खुश किसान पीडीएफ
वर्चुअल टॉस क्रिकेट