लॉटरी एक पिक

लॉटरी एक पिक

time:2021-10-25 22:41:00 अगले 3-6 महीने में कोविड से पहले के स्तर पर पहुंच जाएगी कंपनियों की भर्ती : सर्वे Views:4591

बैकरेट लाइव डीलर लॉटरी एक पिक 188bet डाउनलोड,casumo पेपैल,lovebet 0-0 पेन्जीन टिलबेज,lovebet ई बॉम,lovebet भुगतान के तरीके,lovebet02.com/việt nam,एयू स्पोर्ट्स एचडी लाइव,बैकारेट में भूत होते हैं,बैकारेट याकूब,सट्टेबाजी साइटों की सूची,कैसीनो दिवस बोनस,कैसीनो ज़ी5 कास्ट,कॉमोन एपीके,क्रिकेट ऑनलाइन सट्टेबाजी,एस्पोर्ट्स डेनमी,पसंदीदा मछली पकड़ने की भीड़,फ़ुटबॉल एकल गेम अनुशंसा,घा फुटबॉल,Xunlei . के साथ कैसे डाउनलोड करें,आईपीएल स्थल 2021,जेएन स्पोर्ट्स,लाइव कैसीनो रोजगार,लॉटरी 89917,लूडो डील,एनएचएल बेस्ट ऑफ फाइव हिस्ट्री,ऑनलाइन जुआ धोखाधड़ी,ऑनलाइन पोकर दक्षिण अफ्रीका,परिमच फोन नंबर,पोकर फिल्म,फुटबॉल सट्टेबाजी के लिए विश्वसनीय वेबसाइट,नियम छह,रम्मीकल्चर एपीके डाउनलोड,स्लॉट मशीन आरटीपी,स्पोर्ट्स बेटिंग रेटिंग,स्पोर्ट्सबुक रोलओवर,टेक्सास होल्डम टेबल,आप कैसीनो बोनस,बकारट सबसे अच्छा कहाँ खेलें,जेड शतरंज,ऑनलाइन जुआ font,क्रिकेट ranking,गोवा धर्म,तीन पत्ती खेल के नियम,बकरा था,बैकरेट की प्रायिकता,शर्त का पर्यायवाची शब्द, .अगले 3-6 महीने में कोविड से पहले के स्तर पर पहुंच जाएगी कंपनियों की भर्ती : सर्वे

इस सर्वे में देशभर के 1,327 रिक्रूटर्स और कंसल्‍टेंट्स ने हिस्सा लिया.
मुंबई : बाजार में हालात सुधरने के साथ कंपनियां भी नए साल में रिकवरी को लेकर आशावान हैं. करीब 26 फीसदी रिक्रूटर्स (नियोक्ताओं) को उम्मीद है कि अगले 3-6 महीने में भर्तियां कोविड से पहले के स्तर पर पहुंच सकती हैं.

वहीं, 34 फीसदी नियोक्ताओं का मानना है कि इसमें छह महीने से एक साल तक का समय लग सकता है. एक सर्वे में यह निष्कर्ष सामने आया है. रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : कितनी सेफ है आपकी जॉब? खतरों के इन 7 संकेतों के बारे में जान लें

कंपनी ने एक बयान में बताया कि इस सर्वे में देशभर के 1,327 रिक्रूटर्स और कंसल्‍टेंट्स ने हिस्सा लिया. नौकरी डॉट कॉम ने इसके अलावा अपने प्‍लेटफॉर्म पर उपलब्ध एक लाख से अधिक नियोक्ताओं के आंकड़ों का भी विश्लेषण किया.

कोविड से पहले का स्तर तय करने के लिए कंपनी ने जनवरी और फरवरी के रोजगार संबंधी आंकड़ों को आधार बनाया. सर्वेक्षण में पता चला कि मेडिकल/हेल्‍थकेयर, आईटी, बीपीओ/आईटीईएस जैसे उद्योगों पर कम प्रभाव पड़ा. लेकिन, खुदरा, हॉस्पिटैलिटी और ट्रैवल जैसे कुछ क्षेत्रों ने परिस्थिति का सामना करने में संघर्ष किया.

इसे भी पढ़ें : कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

इसमें कहा गया है कि 2020 की शुरुआत कुल मिलाकर सकारात्मक हुई. लेकिन, बाद में कोविड-19 ने इसे प्रभावित किया. लॉकडाउन के बाद इसमें ठहराव आया. पर, जून में अनलॉक की शुरुआत से ही रोजगार बाजार में सुधार भी होने लगा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

नौकरी डॉट कॉमहायरिंग आउटलुक सर्वेरोजगार बाजारकोविड से पहले का स्‍तरभर्ती

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game
Artificial intelligence

Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game

15 mins read

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.अगर आप बड़ी तस्वीर के हिसाब से देखें तो पिछले साल की गई छंटनी के हिसाब से इस साल जॉब के मौके में 50 फ़ीसदी तक की वृद्धि दर्ज की गई है।सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

मुंबई, 25 अक्टूबर (भाषा) बीएसई सेंसेक्स सोमवार को 145 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ। वैश्विक स्तर पर सकारात्मक रुख के बीच सूचकांक में मजबूत हिस्सेदारी रखने वाले आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक और एसबीआई में तेजी से बाजार लाभ में रहा। उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में तीस शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 145.43 अंक यानी 0.24 प्रतिशत की बढ़त के साथ 60,967.05 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 10.50 अंक यानी 0.06 प्रतिशत मजबूत होकर 18,125.40 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के शेयरों में करीब 11 प्रतिशत की तेजी के साथ सर्वाधिक लाभ में आईसीआईसीआईअगर आप बड़ी तस्वीर के हिसाब से देखें तो पिछले साल की गई छंटनी के हिसाब से इस साल जॉब के मौके में 50 फ़ीसदी तक की वृद्धि दर्ज की गई है।ये 5 टिप्‍स करियर में आगे बढ़ने में करेंगी मदद

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर स्थिति बहुत साफ नहीं है. कर्मचारी और कंपनियां दोनों इसे लेकर टैक्‍स के बारे में चिंतित हैं.नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) मजबूत हाजिर मांग के कारण कारोबारियों ने अपने सौदों के आकार को बढ़ाया जिससे वायदा कारोबार में सोमवार को चांदी की कीमत 435 रुपये की तेजी के साथ 66,091 रुपये प्रति किलो हो गई। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में चांदी के दिसंबर डिलीवरी वाले वायदा अनुबंध का भाव 435 रुपये यानी 0.66 प्रतिशत बढ़कर 66,091 रुपये प्रति किलो हो गया। इस वायदा अनुबंध में 9,193 लॉट के लिये सौदे किये गये। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि घरेलू बाजार में तेजी के रुख के कारण कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से चांदी कीमतों मेंइस साल 7.7% होगा औसत इंक्रीमेंट, जानिए किस सेक्‍टर में सबसे ज्‍यादा बढ़ेगी सैलरी

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
कैसीनो 888 खेल

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

आईपीएल डाउनलोड

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

रमी मोबाइल हैक

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

गोवा चौपाटी

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) वाहन कलपुर्जे बनाने वाली प्रमुख कंपनी बॉश द्वारा कराए गए एक अध्ययन के मुताबिक भारत में सड़क दुर्घटनाओं के चलते होने वाले कुल सामाजिक-आर्थिक नुकसान की राशि 15.71 से 38.81 अरब अमेरिकी डॉलर के बीच आंकी गई है। बॉश इंडिया के उन्नत स्वायत्त सुरक्षा प्रणाली एवं कॉरपोरेट शोध विभाग के दुर्घटना शोध दल ने इस निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए पिछले दो दशक में दुनिया भर में हुई सड़क दुर्घटनाओं के आंकड़ों का अध्ययन और विश्लेषण किया। इन नतीजों का इस्तेमाल नए उत्पादों की पेशकश करने, व्यावसायिक रणनीतियां बनाने और सड़क सुरक्षा नीतियों के लिए

लॉटरी 1 नंबर और बोनस बॉल

नयी दिल्ली, 25 अक्टूबर (भाषा) डिजिटल फर्म ग्रो ने सोमवार को कहा कि उसने आइकोनिक ग्रोथ की अगुवाई में वित्त पोषण के ताजा दौर में 25.1 करोड़ डॉलर (करीब 1,885 करोड़ रुपये) जुटाए हैं, और इस दौरान कंपनी का मूल्यांकन तीन अरब डॉलर था। कंपनी ने बताया कि ‘ई’ श्रृंखला के वित्तपोषण दौर में एल्केन, लोन पाइन कैपिटल और स्टीडफास्ट जैसे निवेशकों ने भी भाग लिया। ग्रो के मौजूदा निवेशक सिकोया कैपिटल, रिबिट कैपिटल, वाईसी कॉन्टिन्यूटी, टाइगर ग्लोबल और प्रोपेल वेंचर भी वित्तपोषण के ताजा दौर में शामिल हुए। आइकनिक ग्रोथ के पार्टनर यूंकी सुल ने कहा, ‘‘भारत में

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी