बकरा डीजे

बकरा डीजे

time:2021-10-25 21:24:10 लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा Views:4591

असली पैसा ऑनलाइन शतरंज और कार्ड बकरा डीजे 10cric साइन अप,casumo जुआ आयोग,लियोवेगास साइन अप,lovebet कोड 00,lovebet भारत में काम नहीं कर रहा है,lovebet जाम्बिया लॉगिन,क्या ऑनलाइन कैसीनो विश्वसनीय हैं?,बैकरेट मुक्त विश्लेषण सॉफ्टवेयर,बैकारेट फूलदान विंटेज,भारत में सट्टेबाजी कानूनी ताजा खबर,कैसीनो समुद्र तट,कैसीनो वेक्टर,क्लासिक रम्मी रणनीति,बच्चों के लिए क्रिकेट किट,ई स्पोर्ट्स ज़ुकुनफ़्ट,बकारट रोड का अनुभव,फ़ुटबॉल ऑड्स ट्रेडर स्पष्टीकरण,उत्पत्ति कैसीनो Quora,फ़ुटबॉल खेल का विश्लेषण कैसे करें,आईपीएल नई टीम,जैकपॉट यूटाह,मियामी में लाइव लाठी टेबल,लॉटरी 07/05/21,लॉटरी जाम्बिया,एनबीए डाइविंग रैंकिंग,असली पैसे के साथ ऑनलाइन कैसीनो,ऑनलाइन पोकर कोस्टेनलोस ओह्ने एन्मेल्डुंग,पैरामैच हॉर्स रेसिंग,कैसीनो में पोकर,असली ड्रैगन टाइगर क्रैकिंग,नियम हाथ सही,रम्मी वेरिएंट प्रश्न,स्लॉट मशीन कुंजी प्रतिस्थापन,खेल 66,स्पोर्ट्सबुक जॉब रिमोट,टेक्सास होल्डम मानोस,टोटल फ़ुटबॉल,अगर आप ऑनलाइन बैकारेट में पैसे खो देते हैं तो क्या करें?,एक्स-पोकर ऐप,ऊटी गोवा,क्रिकेट cake,गोवा घूमने की जगह बताओ,ड्रैगन किंग,फुटबॉल हिंदी नाम,बेटा वीडियो सॉन्ग,लॉटरी पंजाब result, .लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा

कम अस्थिरता वाले शेयरों का अच्छा करने की एक मुख्य वजह गिरावट को थामना है.
क्‍या लार्जकैप सेगमेंट से कम अस्थिर शेयर चुनकर लंबी अवधि में ज्यादा फायदा उठाया जा सकता है? आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी 100 लो वोलेटिलिटी 30 ईटीएफ एफओएफ के निवेश का यही आधार है. यह 2017 में लॉन्‍च ईटीएफ पर आधारित है. आइए, जानते हैं कि क्‍या इस तरह की रणनीति में वाकई कोई दम है.

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है. इसने निवेशकों को मायूस किया है. कई निवेशकों ने कम लागत वाले इंडेक्‍स फंडों का रुख कर लिया है.

हालांकि, सीधे-सादे इंडेक्स फंड भी बाजार की रोजमर्रा की अस्थिरता से अछूते नहीं हैं. ज्यादा स्टेबल रिटर्न की चाहत रखने वाले निवेशकों के पास एक रास्ता है. वह है कम से कम अस्थिर शेयरों में चुनिंदा तरीके से निवेश करने का.

इसे भी पढ़ें : लंबी अवधि में क्‍या क्रिप्‍टोकरेंसी पैसा बनाने में मदद करेगी?

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी 100 लो वोलेटिलिटी 30 ईटीएफ एफओएफ इस तरह की पेशकश करता है. इसका पोर्टफोलियो 100 टॉप कंपनियों में से 30 सबसे कम अस्थिर शेयरों से बना है.

यह फंड दूसरे इंडेक्‍स फंडों से कितना अलग है? कम अस्थिरता पर जोर के साथ इसके इंडेक्‍स में वजन के लिहाज से 3 टॉप सेक्‍टर शामिल हैं. इनमें कंज्यूमर गुड्स, आईटी और ऑटोमोबाइल्‍स हैं. पारंपरिक तौर पर ये डिफेंसिव सेक्टर हैं.

एनबीएफसी के साथ बैंकिंग शेयर निफ्टी100 लो वोलेटिलिटी 30 इंडेक्‍स का महज 8.6 फीसदी हैं. इस इंडेक्‍स के टॉप शेयरों में पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, डाबर इंडिया, अल्ट्राटेक सीमेंट, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन और बजाज ऑटो प्रमुख हैं. न केवल इंडेक्‍स कम अस्थिरता वाला है बल्कि इसका वैल्यूएशन प्रोफाइल भी कम है.

इसे भी पढ़ें : मनी मार्केट म्यूचुअल फंडों के बारे में ये 5 बातें जान लें, होगा फायदा

ये सभी बातें इसके पक्ष में जाती हैं. लेकिन, क्‍या ये अच्‍छे प्रदर्शन की वजह बनेंगी? कारण है कि कम अस्थिरता या कम जोखिम को कम रिटर्न के साथ जोड़कर देखा जाता है. 2008 से लो वोलेटिलिटी इंडेक्‍स ने 13 में से 8 कैलेंडर वर्ष में प्रमुख सूचकांकों से बेहतर प्रदर्शन किया है. यह उस धारणा के उलट है जो कहती है कि कम जोखिम माने कम रिटर्न है.

master

कम अस्थिरता वाले शेयरों का अच्छा करने की एक मुख्य वजह गिरावट को थामना है. ओमनीसाइंस कैपिटल के सीईओ और चीफ इंवेस्‍टमेंट स्ट्रैटेजिस्ट विकास गुप्ता ने कहा, ''कम अस्थिरता एक तरह का नतीजा है. यह कंपनियों की मजबूत बुनियादी बातों के कारण हो सकता है. ये अनुमान योग्‍य ग्रोथ की पेशकश करती हैं. इनका फायदा स्‍पष्‍ट दिखाता है.''

कोई शेयर जितना ज्यादा गिरता है, उसे वापस अपने स्‍तर पर आने में उतना ही फायदा कमाने की जरूरत पड़ती है. अगर कोई शेयर 50 फीसदी टूटता है तो वापसी के लिए उसे 100 फीसदी चढ़ना होगा. कम गिरावट वाले शेयर को वापसी के लिए लंबी छलांग लगाने की जरूरत नहीं पड़ती है. हालांकि, कम अस्थिरता हमेशा अच्छा नहीं करती है. हर फैक्‍टर का अपना सीजन होता है. फैक्‍टर की टाइमिंग का सही अनुमान लगा पाना मुश्किल है.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

रिटर्नस्थिर शेयरों में पैसा लगाने वाले फंडइंडेक्स फंडएफओएफलार्ज कैप म्‍यूचुअल फंडआईसीआईसीआई प्रू निफ्टी 100 लो वोलेटिलिटी 30 ईटीएफ

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game
Artificial intelligence

Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game

15 mins read

पहले चरण में 31,277 को जिलों का आवंटन हो गया है. इसमें से 15,933 टीचर सामान्‍य कैटेगरी के हैं. 8,513 अन्‍य पिछड़ा वर्ग, 6,615 अनुसूचित जाति और 215 अनुसूचित जनजाति के हैं.अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.कर्मचारियों की छंटनी की खबर ऐसे समय आई जब एक महीने पहले ही हरदयाल प्रसाद ने कंपनी में चीफ एग्‍जीक्‍यूटिव का पद संभाला है. उन्‍होंने अंतरिम प्रमुख नीरज व्‍यास की जगह ली है.सिप में क्यों करना चाहिए लंबे समय तक निवेश

जून में कर्मचारी राज्‍य बीमा स्‍कीम (ईएसआईसी) से जुड़ने वाले मेंबर्स की संख्‍या में भी तेज इजाफा हुआ है.भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.कोविड के बीच जानिए कहां मिल रही हैं नौकरियां

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
लॉटरी मेगा लाखों

वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.

तटरक्षक खेल

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.

परिणाम गिनी खेल जैकपॉट डु पत्रिकाएं

सैलरी कब अपने स्‍तर पर लौटेंगी, यह आर्थिक गतिविधियों के बहाल होने पर निर्भर करेगा. डेलॉयट के सर्वे में शामिल 75 फीसदी संस्‍थानों ने मौजूदा अनिश्चितता को देखते हुए वेतनवृद्धि में किसी तरह के अनुमान जाहिर करने से इंकार कर दिया.

पांच स्कोर रेसिंग

पेटीएम के सीएचआरओ रोहित ठाकुर ने ईटी को बताया कि पिछले तीन से चार महीनों में कंपनी ने करीब 700 लोगों की भर्ती की है. इन्‍हें ऑनलाइन रिक्रूट किया गया है.

पारिमैच निकासी समस्या

भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी