जुआ मशीन का किराया

जुआ मशीन का किराया

time:2021-10-25 21:44:56 फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए? Views:4591

बोनस युगिओह जुआ मशीन का किराया 188bet बोनस,casumo नो डिपॉजिट बोनस,leovegas ज़हल्ट निच्ट औस,lovebet ड्यूशलैंड,एस,lovebet.du/ky,एयू फुटबॉल शेड्यूल 2020,बैकारेट गेमप्ले और तकनीक,बैकारेट हर दिन एक अंक जीतता है,सट्टेबाजी उद्धरण यूरो 2020,कैसीनो डार्विन,कैसीनो हाँ,कॉम.शतरंज.घड़ी,क्रिकेट समाचार आज हिंदी में,एस्पोर्ट्स बेटिंग,फंतासी फुटबॉल लॉटरी ड्राफ्ट,फुटबॉल सस्केचेवान लॉटरी,जीएच फुटबॉल एसोसिएशन,फुटबॉल सट्टेबाजी की मात्रा की जांच कैसे करें,आईपीएल टी20,जेडी स्पोर्ट्स,लाइव कैसीनो कॉकटेल वेट्रेस,लॉटरी 7 जापान,लूडो बेडशीट,पैसा देने के लिए नया कार्ड,ऑनलाइन फ़ुटबॉल सट्टेबाजी सुरक्षित नहीं है,ऑनलाइन पोकर प्रश्नोत्तरी,पैरिमैच नया संस्करण डाउनलोड,पोकर लंगड़ा,रील स्लॉट सॉफ्टवेयर,तीन का नियम,रम्मी-0 गेम,स्लॉट मशीन क्वांडो पैगानो,भारतीय खेल प्राधिकरण भोपाल,स्पोर्ट्सबुक फिलीपींस,टेक्सास होल्डम रेगेलन,त्रि लॉटरी अस्पताल,ऑनलाइन कैश नेटवर्क कहां है,यंग विजडन क्रिकेट बुक,ऑनलाइन गेम्स डाउनलोड,क्रिकेट mazza,गोवा तो लखनऊ ट्रैन,तीन पत्ती ऑफलाइन,बकरा छीलने का तरीका,बेताब भोजपुरी,ववव लाटरी सम्बाद, .फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए?

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.
फ्रेंकलिन टेंपलटन की स्टोरी में रोज नई रोचकता आ रही है. तरलता के संकट से शुरू हुआ फ्रैंकलिन का मामला अब डेट फंड को बंद करने से होता हुआ विदेश नीति पर जाकर अटक गया है. इस बारे में पिछले महीने इकनॉमिक टाइम्स ने आपको जानकारी दी थी कि एसेट मैनेजर के अमेरिकी पैरंट कंपनी ने इस मामले में भारतीय प्रशासन से संपर्क कर समाधान निकालने के लिए डिप्लोमेटिक चैनल ढूंढना शुरू किया है.

इसे भी पढ़ें: एथनिक ड्रेस पर इतना बड़ा दांव क्यों खेल रही है आदित्य बिड़ला फैशन?
एसेट मैनेजर ने वास्तव में यह भी संकेत दिया था कि अगर नियामक इसके ऊपर कार्रवाई करता है तो यह उस से कैसे पीछा छुड़ा सकता है. इसके कुछ दिन बाद ही फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी. उसके बाद भी फंड हाउस द्वारा कई स्कीम को वापस लेने की वजह से फ्रेंकलिन के निवेशक निराश हो चुके हैं.

एक नए डेवलपमेंट में अब फ्रेंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड के उन निवेशकों के लिए भी संकट आ सकता है जो उसके द्वारा बंद किए गए 6 फंड से अलग निवेश कर चुके हैं. भारत में म्यूचुअल फंड कारोबार में बहुत पुरानी खिलाड़ियों में से एक फ्रेंकलिन टेंपलटन ने भारत में दुनिया के बेस्ट वेल्थ मैनेजमेंट प्रैक्टिस की शुरुआत की थी.

वास्तव में राजकोषीय प्रावधानों और जिम्मेदारियों के हिसाब से फ्रेंकलिन टेंपलटन के प्रावधान को गोल्ड स्टैंडर्ड का माना जाता था. डेट स्कीम को हैंडल करने में फ्रेंकलिन टेंपलटन की गलतियों ने बहुत से निवेशकों का भरोसा छीन लिया है.

फ्रेंकलिन टेंपलटन की म्यूचुअल फंड स्कीम में अब तक ₹78,000 करोड़ का निवेश किया जा चुका है, लेकिन बहुत से लोग अपना निवेश भुनाना चाहते हैं. सवाल यह है कि क्या आपको फ्रेंकलिन टेंपलटन फंड में किए गए निवेश में बने रहना चाहिए या इसे भुना लेना चाहिए?

अगर आप इस बात से परेशान हैं कि आपका पैसा फ्रेंकलिन के पास पड़ा हुआ है तो आपको इस निवेश से घबराने की जरूरत नहीं है. आपका पैसा सुरक्षित है और यह एक ट्रस्ट में रखा हुआ है जो आपके नाम से बना हुआ है. एएमसी सिर्फ फीस लेकर आपके पैसे का प्रबंधन कर रही है. अगर कोई फंड हाउस अपना कारोबार समेट लेता है और बंद हो जाता है तो निवेशकों को मौजूदा एनएवी पर फंड हाउस से निकलने का मौका मिलता है.

अगर निवेशक जबरन अपना पैसा किसी म्यूचल फंड से निकालते हैं तो इसमें भी जोखिम होता है. सबसे पहली बात तो यह कि आपको कैपिटल गैन पर टैक्स देना पड़ता है. इसके साथ ही आपकी टैक्स देनदारी इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपने किसी स्कीम में किस तरह से निवेश किया हुआ है. इसके साथ ही दोबारा इन्वेस्टमेंट के जोखिम की वजह से भी किसी म्यूच्यूअल फंड से निकलना समझदारी वाला काम नहीं है.

इसे भी पढ़ें: भारत को जीरो एमिशन टार्गेट का वादा क्यों नहीं करना चाहिए?

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

फ्रेंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंडफ्रेंकलिननिवेशम्यूचुअल फंडफ्रैंकलिन टेम्पलटनएमएफ

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read

2020 के पहले छह महीनों में केपजेमिनी ने 9,500 लोगों की भर्ती की है. सेकेंड हाफ में उसकी 13,500 लोगों को रिक्रूट करने की योजना है.सैलरी कब अपने स्‍तर पर लौटेंगी, यह आर्थिक गतिविधियों के बहाल होने पर निर्भर करेगा. डेलॉयट के सर्वे में शामिल 75 फीसदी संस्‍थानों ने मौजूदा अनिश्चितता को देखते हुए वेतनवृद्धि में किसी तरह के अनुमान जाहिर करने से इंकार कर दिया.इंफोसिस के कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, नए साल से बढ़ेगा वेतन

एनालिटिक्‍स संबंधी जॉब्‍स निकालने वाली कंपन‍ियों में एक्‍सेंचर, एमफेसिस, कग्निजेंट टेक्‍नोलॉजी सॉल्‍यूशन, केपजेमिनी, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, डेल, एचसीएल टेक्‍नोलॉजी और कोलेबरा टेक्‍नोलॉजी प्रमुख हैं.वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.यूपी : 31,000 टीचरों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.इंफोसिस के कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, नए साल से बढ़ेगा वेतन

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
क्रिकेट दा सिल्वा

वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.

आईपीएल हाइलाइट्स 2019

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.

भारत में betway न्यूनतम निकासी

जून में गिरावट के बाद पिछले दो महीनों में एक्टिव जॉब ओपनिंग्‍स में 74 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है. कंपनियों को कोविड की महामारी खत्‍म होने के बाद प्रतिस्‍पर्धा बढ़ने की उम्‍मीद है. वे इसके लिए खुद को तैयार रखना चाहती हैं.

जिलिन एक्सप्रेस 3

शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.

इंटरनेट पर सबसे हॉट बोर्ड गेम

अगर आप युवा (20 के पड़ाव में) हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करना चाहते हैं तो आपका निवेश इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ज्‍यादा होना चाहिए.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी