शाही लड़ाई

शाही लड़ाई

time:2021-10-25 22:19:37 सिप में क्यों करना चाहिए लंबे समय तक निवेश Views:4591

क्रिकेट अंपायर शाही लड़ाई lovebet वास्तव में भुगतान करता है,fun88 खेल,lovebet 35 एमबी,lovebet ग्रेहाउंड परिणाम,lovebet स्पोर्ट वॉच मेड इन चाइना प्राइस,lovebetक्स,बैकारेट 9 पीस नाइफ ब्लॉक सेट id3,बैकारेट संग्रहालय,बेस्ट फाइव यूराष्ट्रपतियों,बोन्स केरी,दिल्ली में कैसीनो,शतरंज ६ चाल चेकमेट,क्रिकेट या ट्विटर,क्रिकेट वीडियो स्थिति,एस्पोर्ट्स टीम,फ़ुटबॉल खाता अभी,फ्री बेटिंग पोर्टल,खुश किसान,बैकारेट को कैसे दबाएं,क्या कोई नकली ऑनलाइन जुआ है?,ख क्रिकेट चमगादड़,लाइव कैसीनो स्पोर्ट्स बार,लॉटरी कैसे खेलें,लूडो सुप्रीम डाउनलोड,ऑनलाइन बैकरेट परीक्षण,ऑनलाइन गेम बनाना,ऑनलाइन स्लॉट्स आई ऑफ होरस,प्वाइंट रम्मी गेम,बाहों के नीचे पोकर,गोवा कैसीनो में रूले,रम्मी 8 खिलाड़ी,रम्मीकल्चर से पैसे कैसे कमाए,स्लॉट 99,स्पोर्ट्स लाइव स्कोर,चाय फुटबॉल खिलाड़ी पीते हैं,पूरे नेटवर्क पर सबसे तेज लॉटरी,वीडियो बैकारेट लास वेगास,बैकारेट के कौन से तरीके,cricket निबंध मराठी,औकात स्टेटस इन हिंदी,क्रिकेट धोनी,चेस चैंपियन इन हिंदी,दस स्कोर एक्सप्रेस 3,बरसात ट्विंकल खन्ना की,रमी खेलने का,स्टेटस जो हिला दे, .सिप में क्यों करना चाहिए लंबे समय तक निवेश

न्यूनतम निवेश की सीमा का कम होना, इंवेस्टमेंट में अनुशासन, रुपए की औसत लागत, कम्पाउडिंग की ताकत सिप में निवेश के प्रमुख फायदों में शामिल हैं.
जुजेर गबाजीवाला, निदेश, वेंचुरा सिक्योरिटीज


अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है. इसकी वजह है कि इसके कई तरह के आम फायदों के बारे में लोग अवगत हो गए हैं.

न्यूनतम निवेश की सीमा का कम होना, इंवेस्टमेंट में अनुशासन, रुपए की औसत लागत, कम्पाउडिंग की ताकत सिप में निवेश के प्रमुख फायदों में शामिल हैं. साथ ही ज्यादा फायदा हासिल करने के लिए या घाटा कम करने के लिए मार्केट को टाइम करने की जरूरत नहीं होती है. मार्च, 2021 में सिप कलेक्शन 9,182 करोड़़ रुपये पर रहा.

यह सालाना आधार पर 6.3 फीसद की वृद्धि को दिखाता है. यह आंकड़ा इस बात को दिखाता है कि अधिक-से-अधिक निवेशक निवेश के लिए सिप का रुख कर रहे हैं. निवेशक जितने लंबे समय तक निवेश करेंगे, उन्हें उतना अधिक फायदा होगा. सिप में निवेश करने वाले निवेशकों को नीचे उल्लेखित बिंदुओं को भी ध्यान में रखना चाहिए.

होल्डिंग की औसत अवधि

अगर कोई निवेशक 20 साल तक निवेश करता है तो हर सिप के लिए होल्डिंग की औसत अवधि 10 साल होगी. इसकी वजह यह कि केवल आपकी सिप की पहली किस्त के भुगतान को 20 साल पूरे हुए हैं. वहीं, सिप की आपकी हालिया किस्त को एक महीने भी नहीं पूरा हुआ है.

ऐसे में अगर कोई व्यक्ति 20 साल से निवेश कर रहा है तो भी होल्डिंग की औसत अवधि केवल 10 साल होगी. ऐसे में निवेशक को होल्डिंग की औसत अवधि को ध्यान में रखना चाहिए. इंवेस्टमेंट की शुरुआत से होल्डिंग की अवधि की गणना नहीं करनी चाहिए.

कम्पाउंडिंग की ताकत

सिप के जरिए निवेश करने का एक फायदा यह है कि आप कम्पाउंडिंग की ताकत का लाभ उठा पाते हैं. लंबे समय तक निवेश किस प्रकार फायदेमंद होता है, इसे समझने के लिए आइए देखते हैं कि अलग-अलग अवधि के लिए हर महीने 10 हजार रुपये के निवेश पर कितना रिटर्न हासिल होता है.

juber-1.


हालांकि, निवेशक s के जरिए निवेश करना जारी रखते हैं लेकिन चिंता की बड़ी वजह यह है कि कई निवेशक समय से पहले अपनी s बंद करा देते हैं. समय से पहले निवेश बंद करने वालों में से कई समयावधि पूरी होने से पहले फंड निकाल लेते हैं.

ऐसा सामान्य तौर पर देखा जाता है कि लोग 7-10 साल तक निवेश के लक्ष्य के साथ में निवेश शुरू करते हैं लेकिन तीन-चार साल बाद बीच में ही उसे बंद करा देते हैं. निवेशकों के s में निवेश जारी नहीं रखने की कई वजहें हो सकती हैं. कुछ कारणों पर नीचे चर्चा की गई हैः

शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव
आम तौर पर निवेशकों को बताया जाता है कि वे 10-15 साल बाद करीब 12-15 फीसद सालाना की दर से रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं. हालांकि, ये रिटर्न एक समान नहीं होते हैं (इसका मतलब है कि हम हर साल सकारात्मक रिटर्न की उम्मीद नहीं कर सकते हैं, जबकि फिक्स्ड डिपोजिट में हम ऐसा करते हैं.). इसकी वजह यहा है कि इक्विटी फंड्स में पर बाजार के उतार-चढ़ाव का असर पड़ता है.

इस तरह बाजार के ऊपर या नीचे होने से निवेशकों के फायदे में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है. इक्विटी फंड्स में निवेश से प्राप्त होने वाला रिटर्न कभी भी एकसमान नहीं होता है. अगर हम पिछले 20 कैलेंडर वर्ष में निफ्टी 50 के रिटर्न को देखें तो यह पता चलता है कि किसी निवेशक को सबसे ज्यादा 78 फीसद (2009) का रिटर्न हासिल हुआ था.

वहीं, -51.8 % (2008) का न्यूनतम रिटर्न प्राप्त हुआ था. इसी तरह बाजार के ऊपर या नीचे होने से रिटर्न पर भी असर देखने को मिलता है. किसी भी निवेशक के लिए इन रिटर्न्स की तुलना फिक्स्ड इनकम वाले फंड से करना सही नहीं होगा.

पा रदर्शिता और रिडेम्शन की आसान प्रक्रिया
म्यूचुअल फंड्स में इस बात को लेकर पारदर्शिता होती है कि किसी निवेशक का पैसा कहां निवेश हो रहा है. फंड्स का NAV दैनिक आधार पर उपलब्ध होता है और फंड्स का पोर्टफोलियो मासिक आधार पर अवेलेबल होता है. यह काफी लाभदायक होता है क्योंकि निवेशकों को इस बात की जानकारी होती है कि उनके रुपये का निवेश कहां हो रहा है.

दूसरी ओर, कई बार इस चीज की वजह से नुकसान भी उठाना पड़ता है क्योंकि कभी-कभी किसी खास कंपनी के बारे में नकारात्मक खबर से निवेशकों में घबराहट पैदा हो जाती है. कई बार तो लोग घबराहट में आकर बिकवाली में लग जाते हैं. बहुत संभव है कि NPS व ULIPS जैसे इंवेस्टमेंट के अन्य इंस्ट्रुमेंट्स में इन सिक्योरिटीज को होल्ड कर लिया जाए लेकिन इससे जुड़ी जानकारी सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध नहीं होती है.

म्यूचुअल फंड में आसानी से रिडमेप्शन (भुनाने) की सुविधा भी कई बार ड्रॉबैक (खामी) बन जाती है. चूंकि निवेशक आसानी से अपने निवेश को रिडीम कर सकते हैं इसलिए वे उम्मीद से थोड़ा भी कम रिटर्न देखते ही रिडेम्पशन का विकल्प तलाशने लगते हैं.

रिटर्न्स को लेकर अंसतोष
कई निवेशक अपनी s के रिटर्न से संतुष्ट नहीं होते हैं और सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान में निवेश बंद करने का निर्णय करते हैं. निवेशक शुरू करने के एक से दो साल के भीतर उस अवधि में प्राप्त होने वाले रिटर्न का मूल्यांकन करने लगते हैं. इस बिन्दु पर कई निवेशकों को लगता है कि उन्होंने निवेश को लेकर गलत फैसला किया है.

हालांकि, वह इस बात को नहीं समझते हैं कि दो साल की में होल्डिंग की औसत अवधि महज एक साल है. वे अपने निवेश के रिटर्न की तुलना अन्य स्टॉक या यहां तक कि निफ्टी या सेंसेक्स से करने लगते हैं. यह पूरी तरह से सेब और नारंगी के बीच तुलना करने जैसा है लेकिन तात्कालिक अनुभव सही नहीं होने के कारण अधिकतर कुछ और नहीं सुनना चाहते हैं.

कुछ निवेशक यह सोचकर म्यूचुअल फंड्स से कतराने लगते हैं कि उन्हें इन फंड्स में निवेश से बढ़िया रिटर्न नहीं मिलेगा. वहीं, कुछ निवेशक जल्दबाजी में निवेश जारी नहीं रखने का फैसला कर जाते हैं. अगर कोई निवेशक कम समय में निवेश जारी नहीं रखने का फैसला करता है तो वह बाद के वर्षों में होने वाले लाभ से वंचित रह जाता है.

हमारे आंतरिक रिसर्च के मुताबिक इक्विटी फंड्स (ग्रोथ ऑप्शन) में 20 साल पहले (जुलाई, 1999 से पहले) हर माह 10,000 का शुरू करने पर सभी फंड्स का औसत वैल्यू कुछ इस प्रकार होताः


juber-2.

हम ऊपर दी गई सारणी में देख सकते हैं कि अगर एक निवेशक 20 साल तक निवेश करता है तो सबसे अच्छे केस में निवेश में उसे 12.2 गुना और सबसे कमजोर रिटर्न वाले केस में 3.3 गुना रिटर्न हासिल होता है.

उतार-चढ़ाव और निगेटिव रिटर्न की प्रत्याशा (प्रोबेबलिटी)
यह आम तौर पर देखा गया है कि की अवधि बढ़ने पर निगेटिव रिटर्न और उतार-चढ़ाव की प्रत्याशा कम हो जाती है. इस चीज को बेहतर तरीके से समझने के लिए हमने कोटक फ्लैक्सीकैप फंड के उदाहरण पर गौर किया. यह फ्लैक्सी कैप फंड है और 10 साल से ज्यादा समय से मौजूद है. 21 फरवरी की तारीख तक इंडेक्स फंड्स को छोड़कर सभी ओपन-एंडेड इक्विटी फंड्स में इसका एयूएम सबसे ज्यादा है.


juber-3.


लाल रंग से चिह्नित सेल कोविड-19 महामारी के असर को दिखाते हैं, जो बहुत ही दुर्लभ और असाधारण मामला है.

ऊपर दी गई सारणी में हम यह देख सकते हैं कि निवेश की अवधि एक साल होने पर निगेटिव रिटर्न की संभावना बढ़ जाती है. जबकि अवधि के दो साल होते ही निगेटिव रिटर्न की गुंजाइश कम हो जाती है.

वहीं, अगर निवेश की अवधि तीन वर्ष या उससे ज्यादा रहती है तो वर्ष 2017-18 को छोड़कर निगेटिव रिटर्न देखने को नहीं मिलता है. एसआईपी की अवधि पांच साल से ज्यादा होते ही रिटर्न में सुधार देखने को मिलता है.

सिप में सफल निवेश का राज
आप यह समझ गए होंगे कि के जरिए निवेश करने पर आपको मार्केट को टाइम नहीं करना पड़ता है. लेकिन निवेशकों को एसआईपी को इतने लंबे वक्त के लिए अपनाना चाहिए ताकि आपके रिटर्न पर बाजार में तेजी या गिरावट का असर ना पड़े. वारेन बफे ने 11 साल की आयु में निवेश करना शुरू कर दिया था लेकिन 56 साल की आयु के होने के बाद ही वह अरबपति बने.




हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

सिप के जरिए निवेशकोटक म्यूचुअल फंडनिवेशशेयर बाजारम्यूचुअल फंडशेयरों में निवेश

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game
Artificial intelligence

Smarter, better, and now more affordable: AI is becoming omnipresent as it steps up its game

15 mins read

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.पहले चरण में 31,277 को जिलों का आवंटन हो गया है. इसमें से 15,933 टीचर सामान्‍य कैटेगरी के हैं. 8,513 अन्‍य पिछड़ा वर्ग, 6,615 अनुसूचित जाति और 215 अनुसूचित जनजाति के हैं.कोविड के बीच जानिए कहां मिल रही हैं नौकरियां

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन की सभी स्कीमों से निकलने की दी सलाह

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.कोविड के बीच जानिए कहां मिल रही हैं नौकरियां

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
प्रतिष्ठित कैसीनो कैश नेटवर्क

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.

बिंदु रम्मी xyz

वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.

lovebet 2021 जोखिम मुक्त शर्त

सितंबर में समाप्त तिमाही में कंपनी के कर्मचारियों की संख्या 2,40,208 थी. कंपनी अपने जूनियर कर्मचारियों को तीसरी तिमाही में एकबारगी विशेष प्रोत्साहन देगी.

श्रीलंका cricket team

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

स्पीड टाइम लॉटरी

अगर आप युवा (20 के पड़ाव में) हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करना चाहते हैं तो आपका निवेश इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ज्‍यादा होना चाहिए.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी